Monday, June 27, 2022
HomeBiharजिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में यातायात नियमों का कड़ाई से पालन,वाहनों...

जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में यातायात नियमों का कड़ाई से पालन,वाहनों पर स्पीड गवर्नर,ओवरलोडिंग के विरुद्ध कार्रवाई करने का निर्देश  

ध्रुव कुमार सिंहमुजफ्फरपुर, बिहार

 

 

 

अपर समाहर्ता राजेश कुमार की अध्यक्षता में मुजफ्फरपुर समाहरणालय सभाकक्ष में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक हुई। बैठक में जिला परिवहन पदाधिकारी सुशील कुमार, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी कमल सिंह के साथ परिवहन विभाग से संबंधित अन्य पदाधिकारी तथा विभिन्न विभागों के पदाधिकारी उपस्थित थे।।बैठक में अपर समाहर्ता श्री कुमार ने यातायात नियमों को कड़ाई से पालन,वाहनों पर स्पीड गवर्नर,ओवरलोडिंग, सेफ ड्राइविंग प्रेशर हॉर्न के विरुद्ध कार्रवाई करने का निर्देश दिया। सड़कों पर पर्याप्त संख्या में साइनेज लगाने का निर्देश दिया गया। अवैध पार्किंग करने पर टेंपो इत्यादि के विरूद्ध कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया। अपर समाहर्ता  ने कहा कि ऐसे नागरिकों की (गुड सेमेरिटन) की पहचान करें, जो विशेष अवसर पर सड़क दुर्घटना में घायल लोगों की मदद करते हैं। उन्होंने सड़क सुरक्षा के दृष्टिकोण से मुख्य सड़कों पर पेट्रोलिंग लगातार करते रहने तथा सघन चेकिंग कराने का निर्देश दिया ।हेलमेट चेकिंग, सीट बेल्ट चेकिंग लगातार चलाने एवं नियमानुसार जुर्माना राशि वसूल करने का निर्देश दिया गया।बैठक में उपस्थित उदय शंकर सिंह, अध्यक्ष, बिहार ट्रांसपोर्ट मोटर संघ ने भी कई महत्वपूर्ण सुझाव दिया, जिसे लागू करने के बात डीटीओ द्वारा गई। वही बैठक में उपस्थित ए.आर अन्नू अध्यक्ष ऑटो कर्मचारी संघ के द्वारा अनुरोध किया गया कि चिन्हित ऑटो स्टैंड को शीघ्र खाली कराई जाए एवं वहां ऑटो स्टैंड का बोर्ड लगाया जाए। बैठक में जिला परिवहन पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि जिलाधिकारी के निर्देश के आलोक में माह जनवरी 2022 से अब तक औचक वाहन जांच अभियान चलाया गया जिसके तहत  हुए 82,93,500 रुपये की वसूली की गई है।उनके द्वारा जानकारी दी गई कि सिमुलेटर के माध्यम से वाहन चालक क्षमता संवर्धन करने हेतु जिला के वैद्य मोटर ट्रेनिंग ड्राइविंग स्कूलों में उन्नत चालन प्रशिक्षण योजना के तहत सिम्युलेटर आधारित परफेक्ट मोटर ट्रेनिंग ड्राइविंग स्कूल द्वारा सिमुलेटर आधारित प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जानकारी दी गई कि जिले में तीन ड्राइविंग स्कूल का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिसे बढ़ाकर चार कर दिया गया है। इनमें से तीन मोटर ट्रेनिंग  ड्राइविंग स्कूलों की स्वीकृति हो चुकी है जिसमें से दो मोटर ट्रेनिंग ड्राइविंग स्कूल का निर्माण कार्य प्रगति पर है।वही प्रदूषण जांच केंद्र के बारे में जानकारी दी गई 14 प्रखंडों में 68 से बढ़कर वर्तमान में 73 प्रदूषण जांच केंद्र कार्यरत है।वही सुरक्षित परिवहन को बढ़ावा देने तथा यात्रियों के सुरक्षित पड़ाव की सुविधा हेतु ग्रामीण क्षेत्रों में बस स्टॉप का निर्माण किया जाना है। प्रथम चरण में 24 बस स्टॉप के निर्माण के लक्ष्य के विरुद्ध 13 बस स्टॉप का निर्माण हो चुका है। बताया गया कि यातायात उल्लंघनकर्ताओं के विरुद्ध जुर्माना लगाने के साथ-साथ वर्ष 2022  में 3 चालक अनुज्ञप्ति निलंबन की अनुशंसा की गई है तथा नियमित जांच की कार्रवाई की जा रही है।

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments