Thursday, January 21, 2021
Home World चीन की आक्रामकता के खिलाफ लद्दाख तनाव अमेरिकी डेमोक्रेट्स रिपब्लिकन सपोर्ट इंडिया

चीन की आक्रामकता के खिलाफ लद्दाख तनाव अमेरिकी डेमोक्रेट्स रिपब्लिकन सपोर्ट इंडिया


लद्दाख में चीन द्वारा हाल में दिखाई गई सैन्य आक्रामकता के खिलाफ भारत को अमेरिकी कांग्रेस के द्विदलीय सदस्यों का जबरदस्त समर्थन मिला है। भारत और चीन की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में समकालीन नियंत्रण रेखा (एलएसी) के कई क्षेत्रों में पांच मई के बाद से गतिरोध चल रहा है। हालात तब बिगड़ गए जब 15 जून को गलवान घाटी में झड़पों में भारतीय सेना के 20 कर्मी शहीद हो गए और चीन के भी कई सैनिक मारे गए।

पिछले कुछ हफ्तों में अभ्यावेदन और सीनेट दोनों के कई सांसदों ने भारतीय क्षेत्रों को जोखिमाने की चीन की कोशिशों के खिलाफ भारत के सख्त रुख की तारीफ की है। डेमोक्रेटिक पार्टी के वरिष्ठ सांसदों में से एक फ्रैंक पैलोन ने प्रतिनिधित्व सभा में भारत के लद्दाख क्षेत्र में चीन की आक्रामकता की निंदा करते हुए कहा, '' मैं चीन से अपनी सैन्य आक्रामकता खत्म करने की अपील करता हूं। यह संघर्ष करने वाले माध्यमों से ही हल होना चाहिए। "

भारत-नेपाल के बीच विवाद वाले इलाके लिपुलेख में चीन ने बटालियन को किया तैनात, जानिए क्या है संकेत

भारत-अमेरिका संबंधों का मजबूती से समर्थन करने वाले पैलोन 1988 से अमेरिकी कांग्रेस के सदस्य हैं। ऐसे समय में जब वाशिंगटनटनसीडी में राजनीतिक विभाजन बढ़ गया है तो दोनों पक्षों के प्रभावशाली सांसद चीन के खिलाफ भारत के रुख का समर्थन कर रहे हैं। ' पैलोन ने दावा किया, '' झड़पों से कुछ महीने पहले चीन की सेना ने कथित तौर पर सीमा पर 5,000 सैनिकों का जमावड़ा किया और इसका स्पष्ट रूप से मतलब बल और आक्रामकता से सीमा का पुन: निर्धारण करना है। ''

चीन के खिलाफ भारत को समर्थन ट्वीट के जरिए, जन ​​भाषणों, सदन के पटल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका में भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू को पत्र लिखकर किया गया। कई सांसदों ने चीन के खिलाफ अपना आक्रोश जताने के लिए संधू को फोन भी किया। एक दिन पहले कोलोराडो से रिपब्लिकन सीनेटर कोरी गार्डनर ने संधू को फोन कर एलएसी में भारतीय सैनिकों के शहीद होने पर अपनी संवेदनाएं जताई।

भारत से बिगड़े रिश्ते का चालकी से फायदा उठा रहा चीन, बोला- हम नेपाल को अपने बराबर मानते हैं

गार्डनर ने कहा, '' अमेरिका और भारत के संबंध व्यापक, गहरे और प्रगति पर हैं। हमने यह चर्चा की कि हमारे राष्ट्रों के बीच क्षेत्र में साझा चुनौतियों और आक्रामकता का मुकाबला करने और हिंद-प्रशांत में नियम आधारित आंतरिक व्यवस्था बनाए रखने के लिए दोनों देशों के बीच सहयोग कितना महत्वपूर्ण है। "कोलोराडो से रिपब्लिकन सीनेटर गार्डनर पूर्वी एशिया, प्रशांत और आंतरिक साइबर सुरक्षा नीति पर सीनेट की विदेश मामलों की उपसमिति के अध्यक्ष भी हैं। सीनेटर रिक स्कॉट ने हफ्तों पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर चीनी आक्रामकता के खिलाफ उनकी लड़ाई की तारीफ की थी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दिल्ली में 6 जनवरी से अब तक 1200 से ज्यादा पक्षियों की मौत, लेकिन …

ठंड की वजह से भी पक्षियों की मौत हुई है। (प्रतीकात्मक चित्र)खास बातेंदिल्ली में बर्ड फ्लू का मामला1200 से अधिक पक्षियों की...

पेट्रोल डीजल की कीमत आज: आज फिर नहीं बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, जानें अपने शहर का रेट

पेट्रोल डीजल की कीमत आज 21 जनवरी 2021: सरकारी तेल कंपनियों ने आज फिर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बढ़ोतरी...

Recent Comments