Saturday, January 16, 2021
Home Pradesh Uttar Pradesh गोरखपुर: सीओवीआईडी ​​-19 वैक्सीनेशन से पहले सीएम योगी की बड़ी अपील, भगदड़...

गोरखपुर: सीओवीआईडी ​​-19 वैक्सीनेशन से पहले सीएम योगी की बड़ी अपील, भगदड़ न मचाएं, अपनी बारी का करें इंतजार


कोरोना वैक्सीनेशन से पहले सीएम योगी ने बड़ा बयान दिया है।

कोरोना वैक्सीनेशन से पहले सीएम योगी ने बड़ा बयान दिया है।

कोरोना वैक्सीन: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (सीएम योगी आदित्यनाथ) ने लोगों से अपील की है कि वे वैक्सीन के लिए भगदड़ न मचाएं। सभी को अपनी बारी का इंतजार करना चाहिए। टीकाकरण के लिए जब किसको बुलाया जाता है पहुँचें। आम भीड़ न।

गोरखपुर। लंबे समय से खत्म होने का इंतजार किया जा रहा है। गोरखपुर में भी कोविंद -19 वैक्सीन (COVID-19 वैक्सीन) की 28 हजार डोज स्पाइस जेट के विमान से मुंबई से गोरखपुर (गोरखपुर) पहुंचती हैं। पासपोर्ट पर वहाँ के अधिकारियों ने वैक्सीन का स्वागत किया। इसके बाद कड़ी सुरक्षा के बीच इसे कड़ी गृह में पुलिस की सुरक्षा और सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में रखा गया था। ये टीकर को पुलिस की निगरानी में जिले के अलग-अलग हिस्सों में बने 38 कोल्ड चेन प्वाइंट तक पहुंचाया जाएगा। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से अपील की है कि वे वैक्सीन के लिए भगदड़ न मचाएं। सभी को अपनी बारी का इंतजार करना चाहिए। टीकाकरण के लिए जब किसको बुलाया जाता है पहुँचें। आम भीड़ न।

सीएमओ डॉ। सुधाकर पांडेय का कहना है कि 16 जनवरी को पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाएगा। उस दिन 20 केंद्रों पर टीकाकरण हो जाएगा। उन्होने लोगों से अपील की है कि जब तक सभी लोगों को को विभाजित का केक न लगना चाहिए तब तक को विभाजित करनेवाल का पालन करते रहना है। टीकाकरण चरणबद्ध तरीके से ही होगा। अभी इसकी पहली डोज सिर्फ जिले भर के करीब 26000 स्वास्थ्यकर्मियों को लगने जा रही है। टीका करण के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन, यूनीसेफ, सीएचएआई और यूएनडीपी के प्रतिनिधि तकनीकी सहयोग करेंगे।

ये भी पढ़ें: बाड़मेर: हथियारों से लैस ने बदमाशों ने एसओजी टीम पर किया हमला, छुड़ा ले गए कुख्यात तस्कर चंद्र प्रकाश

स्वास्थ्यकर्मियों को ही लगेगा सीएमओ का कहना है कि वर्तमान में केवल सरकारी और निजी क्षेत्र के कोविन पोर्टल पर पंजीकृत हो चुके स्वास्थ्यकर्मियों को हीoc लगेगा। गैर पंजीकृत लोगों को कोक नहीं किया जाएगा। शासन से प्राप्त दिशा-निर्देश के अनुसार आने वाले समय में, एयरलाइन कर्मचारी, 50 वर्ष से अधिक आयु के लोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, एचआईवी और कैंसर जैसी बीमारियों से पीड़ित लोगों का पंजीकरण करने के बाद ही टीकाकरण की सुविधा मिल सकेगी। इसलिए वर्तमान में विभाजित -19 से आरक्षण के लिए सतर्कता ही एक बेहतर विकल्प है। साथ ही कहा कि वैक्सीन की एक खुराक लेने के 28 दिन के भीतर ही दूसरी खुराक भी दी जानी चाहिए। कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक प्राप्त करने के दो सप्ताह बाद आमतौर पर स्वास्थ्य का सकारात्मक स्तर विकसित होता है, इसलिए जो स्वास्थ्यकर्मी टीके की पहली खुराक प्राप्त करेंगे उन्हें उन्हें भी विकसित होने तक सतर्कता का यह व्यवहार जारी रखना होगा।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोरोनाकैनीकरण के लिए हिमाचल प्रदेश तैयार, वैक्लाइन की खेप मिली: सीएम जयराम ठाकुर

नई दिल्ली: कोरोना टीकाकरण: कोरोना के खिलाफ देश का टीकाकरण अभियान शनिवार, 16 जनवरी से प्रारंभ हो रहा है। देश के...

कोरोना की मार, बीते साल घरेलू उड़ानों पर यात्रियों की संख्या में 56.29 प्रतिशत की गिरावट

घरेलू उड़ानों के यात्रियों की संख्या में बीते साल यानी 2020 में भारी गिरावट आई है। नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) द्वारा शुक्रवार...

“इविशील्ड की प्रभावशीलता काफी होगी अगर खुराक में अंतराल 28 दिन से ज्यादा हो: सीरम इंस्टीट्यूट ने एनडीटीवी को बताया

सीरम इंस्टीट्यूट के सुरेश जाधव ने कहा कि परिणामजे और बेहतर होते हैं अगर खुराक के बीच कुछ साप्ताहिक ज्यादा होता है। नई...

Recent Comments