Sunday, November 29, 2020
Home Pradesh Uttar Pradesh गायत्री प्रजापति के खिलाफ गवाह न पेश करने पर लखनऊ जेल अधीक्षक...

गायत्री प्रजापति के खिलाफ गवाह न पेश करने पर लखनऊ जेल अधीक्षक को नोटिस


पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति (फाइल फोटो)

पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति (फाइल फोटो)

कोर्ट ने जेल अधीक्षक को लिखा है कि क्यों न आपके खिलाफ एफआईआर लिखी जाए? ये नोटिस एमपी / एमएलए कोर्ट ने जारी किया है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:
    24 अक्टूबर, 2020, सुबह 6:59 बजे IST

लखनऊ। गैंगरेप केस (गैंगरेप केस) में जेल में बंद पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति (पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति) के मामले में लखनऊ जेल अधीक्षक (लखनऊ जेल अधीक्षक) को कोर्ट ने नोटिस भेजा है। दरअसल कोर्ट ने गायत्री प्रजापति के खिलाफ गवाह को कोर्ट न भेजने पर ये नोटिस भेजा है। जानकारी के अनुसार राम सिंह गैंगरेप केस में गायत्री प्रजापति के खिलाफ गवाह है। वह एक अन्य मामले में जेल में बंद है।

8 दिन में जेल अधीक्षक को देना है जवाब

दरअसल अदालत के आदेश के बावजूद जेल अधीक्षक ने रामसिंह को कोर्ट नहीं भेजा। इस पर कोर्ट ने जेल अधीक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। कोर्ट ने 8 दिन में जेल अधीक्षक से मामले में जवाब तलब किया है। कोर्ट ने जेल अधीक्षक को लिखा, क्यों न आपके खिलाफ एफआईआर लिखी जाए? ये नोटिस एमपी / एमएलए कोर्ट ने जारी किया है।

पूर्व प्रबंधक ने ईडी के सामने उगले कई राजउधर दूसरी ओर गायत्री प्रजापति की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। गायत्री प्रजापति के पूर्व प्रबंधक बृजभवन चौबे ने प्रवर्तन निदेशालय की दखल के दौरान गायत्री से जुड़ी महत्वपूर्ण विशेषताओं ईडी को दी हैं। इसमें करोड़ों की कई संपीडन अधिकारियों को जिक्र किया गया है। जानकारी के अनुसार पूर्व प्रबंधक ने बताया कि गायत्री प्रजापति ने अपने ड्राइवर, नौकर से लेकर रसोइए तक के नाम संपत्तियां ले रखे हैं। इनकी डिटेल मिलने के बाद ईडी ने जांच की तैयारी शुरू कर दी है।

बता दें कि कई दिनों से ईडी बृजभवन चौबे के बयान दर्ज कर रहे हैं। बता दें कि प्रदेश में खनन विभाग और मनी लांड्रिंग से जुड़े मामलों की ईडी जांच कर रही है। पूर्व में गायत्री के बेटे से भी ईडी ने हस्तक्षेप की थी। सूत्रों के मुताबिक ईडी ये सभी जानकारी हलफनामे के माध्यम से मामले को मजबूत करेगी।

एमपी / एमएलए कोर्ट से गायत्री को ये राहत मिली

पिछले दिनों गायत्री प्रजापति को एक राहत मिली थी। एमपी / एमएलए कोर्ट ने स्वस्थ होने तक गायत्री को केजीएमयू में रहने का आदेश जारी कर दिया है। बीते दिनों गायत्री को केजीएमयू से जेल शिफ्ट करने को लेकर लिखा-पढ़ी चल रही थी। पिछले महीने रेप के आरोप में ज़मानत मिलने के बाद गायत्री केजीएमयू से जाने वाला था लेकिन ज़फ़र के अगले ही दिन उसे दूसरे मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था। केवल से पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति न्यायिक अभिरक्षा में केजीएमयू में भर्ती है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सीएम अमरिंदर सिंह ने किसानों से कहा, अमित शाह की अपील को स्वीकार करें – सीएम अमरिंदर सिंह ने किसानों से कहा, अमित शाह...

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह (फाइल फोटो)।नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अपील पर पंजाब के सी.एम. कैप्टन अमरिंदर सिंह ...

17 वें चीन-आसियान मेले में कुल निवेश 2 ट्रिलियन 60 बिलियन युआन से अधिक था 17 वें चीन-आसियान मेले में कुल निवेश 2 खरब...

बीजिंग, 28 नवंबर (आईएएनएस)। 17 वें चीन-आसियान मेले का हस्ताक्षर समारोह 27 नवंबर को क्वांगशी प्रांत के नाननिंग शहर में आयोजित...

Recent Comments