Home India क्षेत्र को नहीं मिल पा रहा सांसद आदर्श ग्राम योजना का लाभ – भानुप्रताप सिंह राठौड़

क्षेत्र को नहीं मिल पा रहा सांसद आदर्श ग्राम योजना का लाभ – भानुप्रताप सिंह राठौड़

0
क्षेत्र को नहीं मिल पा रहा सांसद आदर्श ग्राम योजना का लाभ – भानुप्रताप सिंह राठौड़

कांग्रेस नेता का सांसद पर अकर्मण्यता का खुला आरोप –

प्रधानमंत्री द्वारा प्रवृत महत्वपूर्ण योजना के दूसरे चरण में सांसद की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहा है क्षेत्र
नीमच ,   नीमच जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष और नीमच विधानसभा क्षेत्र के सक्रिय नेता भानुप्रताप सिंह राठौड़ ने आरोप लगाया है कि , ग्रामीण क्षेत्रों की स्थिति सुधार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई सांसद आदर्श ग्राम योजना के दूसरे चरण को लेकर  नीमच – मन्दसौर संसदीय क्षेत्र के सांसद सुधीर गुप्ता की घोर अकर्मण्यता एवं उदासीनता के कारण क्षेत्र को अभी तक कोई लाभ नहीं मिल पाया है ।
यहां जारी एक बयान में श्री राठौड़ ने कहा कि ग्रामीण लोगों को बुनियादी सुविधाएं मुहैया करवाने और रोजगार के अवसर देने के लिए प्रधानमंत्री ने सांसद आदर्श ग्राम योजना शुरू की है । इसके अंतर्गत सासंद को प्रति वर्ष एक ग्राम पंचायत का चयन कर कलेक्टर को अवगत करवाना होता है । इसी के अनुरूप चयनित क्षेत्र में प्रस्तावित विकास कार्यों को मूर्त रूप दिया जाता है । लक्ष्य चयनित क्षेत्र को आदर्श बनाना रहता है ।
राठौड़ ने कहा कि योजना के प्रथम चरण के तहत सांसद जी ने किन – किन ग्रामीण अंचलों को कितना लाभान्वित किया है और वहां विकास सूचकांक के हिसाब से क्या स्थिति है इसका कोई प्रामाणिक विवरण उन्होंने जनता के समक्ष नहीं रखा है । सांसदजी की अकर्मण्यता का आलम यह है कि दूसरे चरण में अभी तक भी उन्होंने क्षेत्रों का चयन कर जिला कलेक्टर को अवगत नहीं करवाया है ।
यह तथ्य ग्रामीण विकास मंत्रालय भोपाल की समीक्षा में उजागर हुआ है । श्री राठौड़ ने कहा कि विभिन्न समाचार माध्यमों की रिपोर्ट के अनुसार , मंत्रालय की समीक्षा बैठक में सांसद आदर्श ग्राम योजना के दूसरे चरण के क्रियान्वन को लेकर यह तथ्य सामने आया है कि मध्यप्रदेश के 40 सांसदों में से 13 सांसद ऐसे हैं जिन्होंने  योजनान्तर्गत अभी तक किसी भी ग्रामीण क्षेत्र का चयन कर कलेक्टर को अवगत ही नहीं करवाया है ।  नीमच – मन्दसौर संसदीय क्षेत्र के सांसद सुधीर गुप्ता का नाम भी इस सूची में शरीक है ।
श्री राठौड़ ने कहा कि , यह भी जानकारी प्रसारित हुई है कि , इस स्थिति में पंचायत राज संचालनालय आयुक्त ने अभी तक उदासीन  सांसदों को पत्र लिख कर अपेक्षा की है कि , दूसरे चरण के तहत वर्ष 2022 – 23 और वर्ष 2023 – 24 के लिये एक – एक ग्राम पंचायत क्षेत्र का चयन कर कलेक्टर को अवगत करवाएं ताकि सांसद आदर्श ग्राम योजना के अनुरूप कार्य किये जा सकें ।
श्री राठौड़ ने कहा कि , भाजपा सरकार के ही मंत्रालय की समीक्षा से हमारे क्षेत्र के सांसदजी की प्रधानमंत्री द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के ध्येय से प्रवृत्त महत्वपूर्ण योजना के दूसरे चरण को लेकर अकर्मण्यता और लापरवाही उजागर  होती है । जन हितों को लेकर उनके गैर जिम्मेदार रवैये के कारण विकास को लेकर क्षेत्र को अनेकानेक केंद्रीय योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है और खामियाजा जनता भुगत रही है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here