Sunday, October 2, 2022
HomeIndiaकोविड बाद की विश्व व्यवस्था में भारत के लिए नए अवसर: केंद्रीय...

कोविड बाद की विश्व व्यवस्था में भारत के लिए नए अवसर: केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर


Image Source : FACEBOOK.COM/RAJEEV.GOI
केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि कोविड के बाद विश्व व्यवस्था भारत को नए अवसर प्रदान करती है।

नई दिल्ली: इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि कोविड के बाद विश्व व्यवस्था भारत को नए अवसर प्रदान करती है क्योंकि दुनिया अब एक भरोसेमंद वैश्विक मूल्य श्रृंखलाओं की ओर देख रही है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, अमेरिका-भारत व्यापार परिषद (USIBC) द्वारा आयोजित ‘इंडिया आइडियाज समिट’ में चंद्रशेखर ने कहा कि सरकार सेमीकंडक्टर और इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम डिजाइन और विनिर्माण परिवेश विकसित करने के लिए एक नीति पर काम कर रही है जो भारत को इस क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण भागीदार के रूप में स्थापित करेगा।

चंद्रशेखर ने कहा, ‘हम नीतिगत कदम के माध्यम से इस क्षेत्र को विकसित करने की उम्मीद कर रहे हैं।’ विज्ञप्ति के अनुसार अपने संबोधन में, मंत्री ने वर्तमान में भारत में जारी दुनिया के सबसे बड़े प्रौद्योगिकी संचालित टीकाकरण कार्यक्रम (कोविड -19) की प्रगति के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि 93 करोड़ लोगों को टीकाकरण किया जा चुका है और दिसंबर तक 1.3 अरब लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य जल्द ही पूरा किया जाएगा। डिजिटल अर्थव्यवस्था पर कोविड महामारी के प्रभाव और आगे की रूपरेखा पर चंद्रशेखर ने कहा कि कोविड के बाद की विश्व व्यवस्था भारत को कई नए अवसर प्रदान करती है।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री ने कहा कि दुनिया अब एक भरोसेमंद वैश्विक मूल्य श्रृंखलाओं की ओर देख रही है। दुनिया भर में डिजिटलीकरण की दर तेज गति से बढ़ रही है और अकेले भारत में लगभग 80 करोड़ उपयोगकर्ता इंटरनेट से जुड़े हैं। विज्ञप्ति में कहा गया है कि इस संख्या के जल्द ही एक अरब का आंकड़ा पार करने की उम्मीद है क्योंकि सरकार का लक्ष्य सभी तक इंटरनेट पहुंच उपलब्ध कराना है। इससे डिजिटल उत्पादों और सेवाओं की मांग बढ़ेगी और डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments