Saturday, January 16, 2021
Home World कोरोना वैक्सीन की कमी दूर करने के लिए हो रही 'लाइट डोज',...

कोरोना वैक्सीन की कमी दूर करने के लिए हो रही ‘लाइट डोज’, रूसी मानव परीक्षण करने के लिए तैयार है


कोरोना महामारी से अमेरिका, ब्रिटेन सहित कई देश बुरी तरह जूझ रहे हैं। ऐसे में कई देश वैक्सीन की कम आपूर्ति को विस्तार देने के तरीकों पर विचार कर रहे हैं। इसी कड़ी में रूसी स्पूतनिक-वी वैक्सीन की एक खुराक वाली ‘स्पूतनिक-लाइट’ का मानव परीक्षण शुरू करने जा रहा है। वहीं, ब्रिटेन और जापान ने भी एक खुराक वाला टीका तैयार करने की कवायद शुरू कर दी है। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि इसका असर थोड़े समय के लिए होगा लेकिन तत्काल ज्यादा लोगों को वैक्सीन उपलब्ध हो सकेगी।

संपन्न देशों में जल्द और बड़े पैमाने पर टीकाकरण शुरू होने के बावजूद कई जगह टीकों की कमी होने लगी है। ऐसे में रूस, ब्रिटेन, जापान सहित अन्य देश डबल-डोज के बीच समय बढ़ाने और डोज के आकार को कम करने के तरीकों पर काम करने में जुट गए हैं। रूस में वैज्ञानिकों ने इसे संभावित हल बताते हुए कहा कि इससे संक्रमण के उच्च दर वाले मुल्कों की मदद होगी। स्पूटेनिक-वी की विदेशों में मार्केटिंग के लिए जिम्मेदार किरिल दैमित्री के अनुसार, रूस में इस्तेमाल की जानेवाली दो खुराक वाली वैक्सीन मूल ही रहेगी।

कम प्रभावी होगा:
स्पूअनिक-लाइट अपनी दो खुराक वाले टीके के मुकाबले कम प्रभावी होगा, लेकिन कोरोनाइरस से बुरी तरह प्रभावित देशों को अस्थायी राहत मिल सकेगी। स्पूटेनिक-वी की मुख्य वैक्सीन के विकास में वित्तीय मदद देने वाला रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड ‘स्पुतनिक-लाइट’ के मानव परीक्षण में भी सहयोग करेगा। टीके की वैश्विक मांग को देखते हुए ‘स्पूतनिक-लाइट’ मूल वैक्सीन की एक खुराक वाला केक होगा। इसके मास्को और सेंट पीटर्सबर्ग में मानव परीक्षण किया जाएगा।

शोध क्या कहता है:
हाल में वैज्ञानिकों ने शोध में दावा किया है कि सामान्य तापमान पर भंडारण की क्षमता वाले को विभाजित -19 टीके का एक डोज चूहों में रोग प्रतिरोधक क्षमता पैदा कर सकता है। एसीएस सेंट्रल साइंस पत्रिका में प्रकाशित स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के अध्ययन में कहा गया है कि एक खुराक वाले टीके काफी हद तक सुरक्षा दे सकते हैं। अध्ययन के सह-लेखक पत्नी किम ने कहा, हमारा लक्ष्य एकल डोज वाला केक बनाने में है जिसमें परिवहन या परिवहन के लिए शीत श्रृंखला की जरूरत नहीं है। अगर हम इसे ठीक से करने में सफल रहते हैं तो यह सस्ता भी होना चाहिए। हमारा टीका निम्नलिखित और मध्यम आय वाले देशों की आबादी के लिए होगा। शोध के निष्कर्षों के आधार पर स्टैनफोर्ड के वैज्ञानिकों ने कहा कि उनका नैनोपार्टिकलेक केवल एक डोज के बाद को विभाजित -19 के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर सकता है।

किस देश में अब तक कितने लोगों को लगाया गया
देश की खुराक
अमेरिका 19.5 लाख
चीन 10 लाख
ब्रिटेन 8 लाख
रूसी 7 लाख
भत्ता 2.79 लाख
(स्रोत: वेबसाइट आवरवर्ल्डिनेडाटा के अनुसार दिसंबर अंत तक)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोरोनाकैनीकरण के लिए हिमाचल प्रदेश तैयार, वैक्लाइन की खेप मिली: सीएम जयराम ठाकुर

नई दिल्ली: कोरोना टीकाकरण: कोरोना के खिलाफ देश का टीकाकरण अभियान शनिवार, 16 जनवरी से प्रारंभ हो रहा है। देश के...

कोरोना की मार, बीते साल घरेलू उड़ानों पर यात्रियों की संख्या में 56.29 प्रतिशत की गिरावट

घरेलू उड़ानों के यात्रियों की संख्या में बीते साल यानी 2020 में भारी गिरावट आई है। नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) द्वारा शुक्रवार...

“इविशील्ड की प्रभावशीलता काफी होगी अगर खुराक में अंतराल 28 दिन से ज्यादा हो: सीरम इंस्टीट्यूट ने एनडीटीवी को बताया

सीरम इंस्टीट्यूट के सुरेश जाधव ने कहा कि परिणामजे और बेहतर होते हैं अगर खुराक के बीच कुछ साप्ताहिक ज्यादा होता है। नई...

Recent Comments