Sunday, September 25, 2022
HomeIndiaकेरल की बाढ़ भी नहीं तोड़ पाई दूल्हा-दुल्हन का हौंसला, मुहूर्त पर...

केरल की बाढ़ भी नहीं तोड़ पाई दूल्हा-दुल्हन का हौंसला, मुहूर्त पर शादी के लिए पतीले में बैठकर पहुंचे मंडप



केरल की बाढ़ भी नहीं तोड़ पाई दूल्हा-दुल्हन का हौंसला, मुहूर्त पर शादी के लिए पतीले में बैठकर पहुंचे मंडप

कोच्ची: केरल में बाढ़ की वजह से जहां कई जिलों में भारी तबाही हुई, वहीं कुछ ऐसी तस्वीरें भी आ रही हैं जो बताती हैं कि हौंसला बुलंद हो तो बाढ़ भी कुछ नहीं कर सकती। केरल में आल्लपुझा जिले के अपर कुट्टनाड क्षेत्र में दूल्हे और दुलहन के हौंसले के आगे बाढ़ को हारना पड़ा। पानी को पार करने के लिए जब कुछ नहीं मिला तो दूल्हा तथा दुल्हन एक बड़े पतीले में बैठे और शादी करने के लिए मंडप तक पहुंच गए।

दरअसल कुट्टनाड क्षेत्र के रहने वाले राहुल और ऐश्वर्या की शादी 18 अक्तूबर सुबह तय हुई थी, लेकिन बाढ़ की वजह से शादी की तैयारियों में खल पड़ गया। जिस मंदिर के मंडप में शादी होनी थी उसके प्रांगण में बाढ़ की वजह से कमर तक पानी भर गया था। बाढ़ के पानी के बावजूद वर तथा वधू पक्ष ने तय किया कि शादी आज ही होगी और तय मुहूर्त पर होगी।

दोनों पक्षों की तरफ से शादी करने के फैसले के बाद दूल्हे तथा दुल्हन को मंडप तक पहुंचाना बड़ी चुनौती था, लेकिन पास में पड़े खाना बनाने के बड़े पतीले ने उस चुनौती को भी आसान बना दिया। वर तथा वधू को बड़े से पतीले में बैठाकर पानी पार कराया गया और मंडप तक पहुंचाया गया। सभी लोगों के मंडप तक पहुंचने के बाद तय मुहूर्त पर शादी संपन्न हुई।

केरल में कुट्टनाड क्षेत्र 3 जिलों से सटा हुआ है और, इस क्षेत्र में सामान्य तौर पर भारी बरसात होती है, लेकिन इस बार अत्याधिक बरसात हुई है, हालांकि जिस क्षेत्र में यह शादी हुई है वह आल्लपुजा जिले से सटा हुआ है और उस क्षेत्र में वैसी बारिश नहीं हुई है जितनी कोट्टयम और पत्तिनमथिट्टा जिलों में हुई है, कोट्टयम और पत्तिनमथिट्टा जिलों का कुछ हिस्सा भी कुट्टनाड क्षेत्र में आता है। केरल में भारी बारिश की वजह से सबसे ज्यादा तबाही कोट्टयम,पत्तिनमथिट्टा और इडुक्की जिले में हुई है।





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments