Thursday, January 21, 2021
Home Business किसान आंदोलन की मार: सप्लाई प्रभावित होने से आधा हुआ कारोबार, चीनी...

किसान आंदोलन की मार: सप्लाई प्रभावित होने से आधा हुआ कारोबार, चीनी से लेकर ऑटो पार्ट्स तक पर असर पड़ेगा


लॉकडाउन के चलते बेपटरी हुआ दिल्ली का कारोबार दिवाली के बाद जहां संभला था वहीं किसान आंदोलन के चलते यह फिर से बेपटरी हो गया है। आंदोलन के कारण बॉर्डर बंद हैं। इससे कारोबार प्रभावित हो रहा है। आवक से लेकर आपूर्ति तक प्रभावित हुई है। इससे प्रमुख मुद्राओं में कारोबार 50 फीसदी तक नीचे गिर गया है। इस आंदोलन के चलते दिल्ली को कारोबारी नुकसान तेज हो गया है। चैंबर्स ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री के मुताबिक अभी तक 300 करोड़ के कारोबारी नुकसान का अनुमान है। आंदोलन के कारण प्रभावित क्षेत्रों के रिपोर्टर माल नहीं ले रहे हैं, जो गया था, वह नहीं पहुंचा है। अगर आंदोलन लंबा खिंचा तो अधिक नुकसान होगा।

औटो पार्ट्स के कारोबार में कमी

किसान आंदोलन का असर कश्मीरी गेट औटो पार्ट्स बाजार पर पड़ा है। ग्राहकों की संख्या में कमी के कारण ऑटो पार्ट्स का कारोबार 50 प्रति तक गिरा है, स्टॉक कम हुआ हैं। कश्मीरी गेट ऑर्ट्स ट्रेडर्स एसोसिशन अपमा के महासचिव विनय नारंग के अनुसार आंदोलन के तहत पंजाब, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर और हरियाणा से आने वाले ग्राहक बाजार में नहीं पहुंच रहे हैं। अपमा महासचिव विनय नारंग के अनुसार पंजाब के पंजाब, जलाधंर, मोहाली, फगवाड़ा में टैक्टर्स के हिस्से बनते हैं। आंदोलन की वजह से आने वाले भागों में कमी आई है। स्टॉक भी कम हुआ है। परिणत 20 प्रति तक भावों में वृद्धि हुई है।

हौजरी की आवक गिरी

सर्दियों का मौसम है। पर से आने वाले हौजरी में दिक्कत हो रही है। रूपान हौजरी कपड़ों की आवक 50 प्रति तक गिर गई है। यह कारोबार हुआ है। सरोजनी नगर मिनी मार्केट एसोइशन के अध्यक्ष अशोक रंधावा के मुताबिक, दिवाली के सीजन में बेहतर कारोबार हुआ था, लेकिन आंदोलन के चलते स्टॉक नहीं है, न ही ग्राहक पहुंच रहे हैं। बाजार में व्यापक असर पड़ा है। मूल्य अभी तक स्थिर हैं।

कपड़ों का कारोबार 40 फीसदी की गिरावट

किसान आंदोलन का असर बढ़ाने वाले कारोबार पर भी असर पड़ा है। आंदोलन के कारण बंद हुई सड़कों की वजह से व्यापारियों के कई उत्पाद की आवक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल और जम्मू-कश्मीर से नहीं हो रही है। कई आवक दिल्ली से इन राज्यों में भेजने में कारोबारियों को परेशानी हो रही है। इस कारण से कारोबार 40 फीसदी तक प्रभावित हुआ है। दिल्ली के कमेटी के अध्यक्ष विजय गुप्ता बंटी के मुताबिक, दिल्ली से इन राज्यों को दालें व मसालों की आपूर्ति की जाती हैं, जबकि वहां से चावल की आवक होती है। आंदोलन के कारण आपूर्ति-आवक बाधित हुई है।

हार्डवेयर: 30 प्रतिशत तक कम व्यापार हुआ

हार्डवेयर कारोबार भी प्रभावित हुआ है। स्टॉक में कमी आई है, तो कारोबार 30 फीसदी तक कम हो गया है। आयरन एंड हार्डवेयर मर्चेट एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र शर्मा के मुताबिक पंजाब, हरियाणा से बड़ी संख्या में हार्डवेयर का सामान आता है। इसमें कृषि उपकरण, नट बोल्ट, से लकड़ी और हार्डवेयर के सामान शामिल हैं। दिल्ली का हार्डवेयर कारोबार, राजस्थान, एमपी, उत्तर प्रदेश तक फैला हुआ है। हम सीजन होने के बावजूद कई सामानों की आपूर्ति नहीं कर पा रहे हैं। आंदोलन के कारण अनंत राज्यों से भी ग्राहक नहीं आ रहे हैं।

होटल कारोबार पर भी असर

किसान आंदोलन के चलते दिल्ली का होटल कारोबार बिल्कुल ठंडा पड़ा है। दिल्ली होटल एसोसिएशन व पहाड़गंज पूर्वानुमान हाउस व होटल फेडरेशन के महासचिव सौरभ छाबड़ा के मुताबिक, पहले से होटल कारोबार बेपटरी हुआ है, ऐसे में इस ठंड के सीजन में कारोबार के पटरी पर लौटने की उम्मीद थी, लेकिन सड़कें जाम होने की वजह से कारोबार ठंडा पड़ा है। । हमें कश्मीर, हिमाचल जाने वाले पर्यटकों की बुकिंग मिली थी, जो यहां रुककर आगे बढ़ते हैं, लेकिन वह पर्यटक सड़क जाम की वजह से दिल्ली में ही फंस गए हैं, जिसमें से कई पर्यटक वापस लौट गए हैं। जो बुकिंग आने वाले दिनों की हुई थी, वह रद किए जा रहे हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

फिल्मी अंदाज़ में शोरूम से करोड़ों का ज़ेवर चुराने वाला धराया, बैग में भर औटो से ले गया था 25% सोना!

दक्षिणी दिल्ली के एक शोरूम में पीसीई किट पहनकर दाखिल होने वाले थनों ने लगभग 13 करोड़ के गहने चोरी कर लिए थे।नई...

Recent Comments