Thursday, August 6, 2020
Home Pradesh Uttar Pradesh कानपुर संजीत यादव मर्डर केस की होगी CBI जांच, सीएम योगी ने...

कानपुर संजीत यादव मर्डर केस की होगी CBI जांच, सीएम योगी ने की सिफारिश | kanpur – हिंदी में समाचार


कानपुर संजीत यादव मर्डर केस की सीबीआई जांच होगी, सीएम योगी ने की सिफारिश

कानपुर संजीत यादव मर्डर केस की होगी सीबीआई जांच (फाइल फोटो)

मामले में पांच आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद उनकी निशानदेही पर पुलिस संजीत (संजीत) के शव को पंडू नदी में तलाश रही है। सप्ताह भर से ज्यादा का वक्त गुजर जाने के बाद भी अभी तक संजीत का शव पुलिस के हाथ नहीं लगा है।

कानपुर। अस्पताल तेजिशियन संजीत यादव (संजीत यादव) के अपहरण और हत्या (अपहरण और हत्या का मामला) के मामले में रविवार को योगी सरकार ने सीबीआई (सीबीआई) की जांच की सिफारिश की है। उधर पुलिस की नाकामी से नाराज संजीत यादव का परिवार कानपुर (कानपुर) के शास्त्री चौक पर अनिश्चितकालीन धरने (धरना) पर बैठ गया है। धरने पर बैठी पिता, मां और बहन का कहना है कि जब तक इस अपहरण कांड का खुलासा नहीं हो जाता और उन्हें न्याय नहीं मिलता उनका धरना जारी रहेगा।

परिवार ने सरकार के सामने पांच मांगोंें भी रखी हैं। बहन रूचि की मांग है कि संजीत यादव अपहरण व हत्याकांड की जांच सीबीआई से कराई जाए। बहन का कहना है कि उसका भाई जो भी हालत में हो उसे बरामद कर उन्हें सौंप देना ताकि रक्षाबन्दी त्यौहार वह अपने भाई की पाठक पर राखी बाँध सके। साथ ही उसका कहना है कि पकडे गए आरोपियों का लाईनिंग और नार्को टेस्ट करवाया जाएगा। जिससे सच्चाई सामने आ सके। बहन की मांग है कि अपहरण व हत्या में शामिल दोषियों को फांसी की सजा दी जाए।

मामले में पांच आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद उनकी निशानदेही पर पुलिस संजीत के शव को पंडू नदी में तलाश रही है। सप्ताह भर से ज्यादा का वक्त गुजर जाने के बाद भी अभी तक संजीत का शव पुलिस के हाथ नहीं लगा है। उधर मामले में चार पुलिस अफसरों पर गाज भी गिरी है। ये 4 पुलिस अफसरों पर गिरी थी

सीएम के निर्देश के बाद शासन से मिली जानकारी के अनुसार जनहित में अपर पुलिस अधीक्षक, दक्षिणी कानपुर नगर, आईपीएस अपर्णा गुप्ता और मनोज गुप्ता तत्कालीन सीओ को निलंबित कर दिया गया है। इसके अलावा लापरवाही बरतने के आरोप में पूर्व प्रभारी निरीक्षक थाना बर्रा रणजीत राय और चौकी इंचार्ज राजेश कुमार को निलंबित कर दिया गया है। बता दें कि एक महीने से अपहरण के इस मामले में कानपुर पुलिस की लापरवाही भी सामने आई है। इस दौरान किडनैपिंग केस में पुलिस पर आरोप भी लगे हैं कि उसने अपहृत युवक के परिजनों से अपहरणकर्ताओं को 30 लाख रुपये भी दिलवा दिए।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ओयो ने भारत, दक्षिण एशिया के कर्मचारियों के वेतन में कटौती ली

होटल श्रृंखला ओयो ने भारत और दक्षिण एशिया में अपने नियमित कर्मचारियों को एक अग से ​​पूरा वेतन देने की मंगलवार को घोषणा...

जम्मू और कश्मीर: वैष्णो देवी यात्रा, जो मार्च से बंद है, 16 अगस्त से फिर से शुरू होगी – जम्मू-कश्मीर: मार्च से बंद वैष्णो...

वैष्णो देवी यात्रा 16 अगस्त से फिर शुरू होगी।नई दिल्ली: कोरोना महामारी के कहर से बचने के बंद पड़ी माता वैष्णो देवी की...

Recent Comments