Thursday, August 5, 2021
Home Desh एनईईटी परीक्षा में छात्र फेल घोषित, कमिटेड सुसाइड, कंप्यूटर एरर केवल 6...

एनईईटी परीक्षा में छात्र फेल घोषित, कमिटेड सुसाइड, कंप्यूटर एरर केवल 6 अंक दिखाता है, लेकिन उसे 590 मिला – NEET परीक्षा में फेल घोषित छात्र ने जान ली, मिले 590 नंबर पर कंप्यूटर ने 6 अंक दिखाए


NEET परीक्षा में फेल घोषित छात्रा ने दी जान, मिले थे 590 नंबर पर कंप्यूटर ने दिखाए 6 अंक

NEET परीक्षा: छात्रा को परीक्षा में इतने कम नंबर मिलने से गहरा सदमा लगा

छिंदवाड़ा:

नीट परीक्षा (NEET) में बेहद कम अंक आने से दुखी मध्य प्रदेश (मध्य प्रदेश) की एक छात्रा द्वारा आत्महत्या कर लेने का मामला सामने आया है। छात्रा को नीट परीक्षा परिणाम में महज 6 नंबर मिले थे, जिस पर छात्रा औ परि उसके परिजनों को कतई यकीन नहीं था। बेटी को खुलने के बाद परिजनों ने कहा कि जब उसकी ओएमआर (ओएमआर शीट) शीट निकलवाई जाए तो उसका नंबर 590 निकले। इससे उनका दुख और बढ़ गया।

यह भी पढ़ें

यह भी पढ़ें- ऑफ़लाइन चार्ट के लिए मजदूर पिता स्मार्टफोन नहीं खरीद पाया तो छात्रा ने की आत्महत्या की

घटना छंदवाड़ा जिले के परासिया थाना क्षेत्र की है, जहां 20 अक्टूबर को छात्रा विधि सूर्यवंशी ने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। विधि के मामा सचिन राय के मुताबिक, उनकी भांजी इतनी कम संख्या आने को लेकर व्यथित थी। परिजनों ने उसे बहुत निर्दिष्ट किया कि कोई चिंता की बात नहीं है और उसे कड़ी मेहनत करनी चाहिए, लेकिन उसका दुख कम नहीं हुआ।
नीट परीक्षा (राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा) का परिणाम 19 अक्टूबर को आया था। ओडिशा के शोएब आफताब (सोयाब आफताब) ने नीट की परीक्षा में 720 में से 720 अंक हासिल कर पहले पायदान हासिल की थी।

यह भी पढ़ें- NEET के डर से छात्रा की आत्महत्या पर अखिलेश यादव ने पूछा, "भाजपा बताए जिम्मेदार कौन"

थाना क्षेत्र के इंस्पेक्टर सुमेर सिंह ने कहा कि छात्रा की आत्महत्या के इस मामले में मार्कशीट में गलत अंक चढ़ने या कंप्यूटर द्वारा ओएमआर शीट की रीडिंग में गड़बड़ी प्रतीत होती है। विधि ने नीट परीक्षा की अपनी मार्कशीट में जब केवल 6 अंक देखे तो उसे गहरा सदमा लगा। इसमें उसकी रैंकिंग 13 से 14 लाख के बीच थी। परिजनों के लाख समझाने-बुझाने और जाँच कराने के भरोसे के बावजूद वह संतुष्ट नहीं हुई। 20 अक्टूबर की सुबह उसने कमरे में पंखे से लटककर जान दे दी।

परिजनों ने बाद में जब ओएमआर शीट हासिल की तो पाया कि दुनिया छोड़ उनकी बेटी को 590 अंक हासिल हुए थे। पिता गुलेंद्र सूर्यवंशी और अन्य परिजन भी बाद में नतीजों को लेकर अवाक रह गए। पुलिस का कहना है कि प्रथमद्रष्टया यह कंप्यूटर की गड़बड़ी का मामला लग रहा है, लेकिन विस्तृत जांच के बाद ही सही कारण सामने पाया गया है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

PM मोदी और योगी से मीटिंग, क्या UP चुनाव में फायदा लेने की कोशिश कर रहे जीतन राम मांझी !

पटना. लोजपा की आपसी फूट के बाद क्या बिहार में सत्तारूढ़ जीतन राम मांझी खुद को दलितों का सबसे बड़ा नेता दिखाने की कोशिश...

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा- ‘महिलाएं आनंद की वस्तु हैं’ पुरुष वर्चस्व की इस मानसिकता से सख्ती से निपटना जरूरी, पढ़ें मामला

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक महत्वपूर्ण आदेश में कहा है कि शादी का झूठा वादा कर यौन संबंध बनाना कानून में दुराचार का अपराध...

2020 से बेहतर हुई यूपी के खजाने की स्थिति, जुलाई में 12655 करोड़ आए : सुरेश खन्ना

प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण का सकारात्मक असर राज्य की आर्थिक गतिविधियों में नजर आने लगा है। चालू वित्तीय वर्ष के...

सदर अस्पताल प्रांगन में ऑक्सीजन प्लांट की भी शुरुआत हो जाएगी: सिविल सर्जन सिविल सर्जन की अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग की मासिक समीक्षात्मक...

संवाददाता - धर्मेंद्र रस्तोगी बैठक में स्वास्थ्य विभाग के सभी कार्यक्रम की समीक्षा की गई अन्य प्रदेश से आने वाले सभी व्यक्तियों की जांच आवश्यक: किशनगंज, जिले में...

Recent Comments