Sunday, June 26, 2022
HomeUttar Pradeshउत्तर प्रदेश हिंदी न्यूज: आजमगढ़ में प्रसपा नेता राम दर्शन यादव लोकसभा...

उत्तर प्रदेश हिंदी न्यूज: आजमगढ़ में प्रसपा नेता राम दर्शन यादव लोकसभा उपचुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हो गए shivpal yadav pragatisheel samajwadi party leader ram dharshan yadav join bjp in azamgarh


आजमगढ़: उत्तर प्रदेश में आजमगढ़ लोकसभा सीट पर उपचुनाव से पहले प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रमुख शिवपाल यादव को बड़ा झटका लगा है।आजमगढ़ में प्रसपा के मंडल अध्यक्ष व पूर्व विधायक राम दर्शन यादव भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने एक जनसभा के दौरान राम दर्शन यादव को पार्टी में शामिल कराया। जो कि 2012 यूपी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janata Party) के टिकट पर मुबारकपुर से लड़ चुके हैं। लेकिन यहां उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।

चुनाव को लेकर आजमगढ़ में क्या है माहौल
भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार दिनेश लाल यादव निरहुआ (Dinesh Lal Yadav Nirahua) जहां लगातार क्षेत्र में दौरे कर रहे हैं। लोगों के बीच जाकर ‘अखिलेश हुए फरार, निरहुआ डटल रहे’ सुना रहे हैं। वहीं, बहुजन समाज पार्टी गुड्‌डू जमाली (BSP Candidate Guddu Jamali) अपनी रणनीति पर चुपचाप काम करते दिख रहे हैं। लोगों के घर-घर जाकर उनका प्रचार अभियान जारी है। वहीं, समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव (Dharmendra Yadav) के सामने इस सीट को बचाने की चुनौती है। अखिलेश यादव के मैनपुरी के करहल से विधायक बनने के बाद यह सीट खाली हुई थी। आजमगढ़ लोकसभा सीट को दोबारा जीतने के लिए तमाम जतन किए जा रहे हैं।

शिवपाल यादव को माना जा रहा अहम
आजमगढ़ में शिवपाल सिंह यादव का भी काफी प्रभाव है। हालांकि शनिवार को उनकी पार्टी प्रसपा के नेता राम दर्शन यादव ने बीजेपी का दामन थाम लिया है।लेकिन देखा जाए तो वर्ष 2014 में उन्होंने आजमगढ़ में कैंप कर मुलायम सिंह यादव की जीत को सुनिश्चित की थी। प्रसपा मुखिया शिवपाल सिंह की अपील आजमगढ़ में महत्व रखती है। वह अपने लोगों को किधर वोट डालने का संकेत करेंगे, इसको लेकर पूरे आजमगढ़ में तरह तरह की चर्चाएं हो रही हैं। कहा जा रहा है कि अखिलेश यादव से शिवपाल की अनबन को देखते हुए धर्मेंद्र यादव अपनी तरफ से शिवपाल को मनाने में लगे हैं। धर्मेंद्र को पता है कि 2019 के लोकसभा चुनावों में शिवपाल यादव की नाराजगी के चलते ही फिरोजाबाद में रामगोपाल यादव के पुत्र चुनाव हार गए थे।



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments