Monday, January 18, 2021
Home Pradesh Uttar Pradesh आपके लिए इसका मतलब: अब तक 15 अफसर यूपी की राजनीति में...

आपके लिए इसका मतलब: अब तक 15 अफसर यूपी की राजनीति में लगाए गए हैं


नौकरशाही से यूपी की राजनीति में कदम रखने वाले अफसरों की लिस्ट काफी लंबी है।

नौकरशाही से यूपी की राजनीति में कदम रखने वाले अफसरों की लिस्ट काफी लंबी है।

गुजरात कैडर के आईएएस अरविंद शर्मा (अरविंद शर्मा) की नौकरी छोड़कर भाजपा जवइन करने से उत्तर प्रदेश की राजनीति में खलबली मची है। उत्तर प्रदेश की राजनीति में ऐसे कई आईएईएस-आईपीएस (आईएएस-आईपीएस) चेहरे हैं, जिन्होंने पॉलिटिक्स को चुना और सांसद से लेकर विधायक तक बने।

लखनऊ। प्रधानमंत्री कार्यालय में गुजरात कैडर के IAS अरविंद शर्मा (IAS अरविंद शर्मा) की नौकरी छोड़कर बीजेपी (BJP) जावइन करने से उत्तर प्रदेश की राजनीति में खलबली मची है। तरह तरह से विपक्षी पार्टियां भाजपा पर हमले कर रही है। कांग्रेस के अध्यक्ष अजय लल्लू ने ट्वीट करके पूछा, ‘बीजेपी बताए कि शर्मा अफसर पार्टी का काम करते रहे या फिर फिर से।’ लेकिन यह सवाल पूछने का हक किसी भी पार्टी को नहीं है, क्योंकि कोई ऐसी पार्टी नहीं है जिसमें कोई नौकरशाह न हो।

इसी तरह, अफसर से पॉलिटिशयन बनने वाले चेहरों की लिस्ट काफी लंबी है। इन पर तंज कसने वालों को भाजपा सांसद और पूर्व डीजीपी बृजलाल ने कटघरे में खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि नौकरशाही में बने अफसर जनता का ही काम करते हैं। जब कोई पार्टी को जवावाइन करते हैं तब भी जनता की सेवा ही करते हैं। इसलिए ये आक्षेप सही नहीं है। दूसरी ओर वरिष्ठ पत्रकार रामदत्त त्रिपाठी ने कहा कि लोकतंत्र में चुनाव लड़ने और राजनीति करने का सभी को हक है। इसलिए इस आधार पर सवाल उठाना जायज नहीं है। वो भी तब जब हर पार्टी में ऐसे नौकरशाह नेता हों।

तो आइए जानते हैं कि यूपी की नौकरशाही के कौन-कौन से बड़े चेहरों ने राजनीति में कदम रखा …

अहमद हसन – एसपी – आईपीएस अफसर रहे और पिछले कई वर्षों से या फिर सपा सरकारों में मंत्री रहे या फिर विपक्ष में रहते विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष रहे। यानी हमेशा पावर कॉरीडोर में बने रहे।

पीएल पूनिया – कांग्रेस – 1970 सलाखों के आईएएस रहे। कांग्रेस से सियासी पारी शुरू की। मनमोहन सरकार में मंत्री रहे।

श्याम सिंह यादव – बसपा – यूपी में पीसीएस अफसर रहे। कई विकास प्राधिकरणों में वासी रहे। नौकरी के बाद बसपा जेविन ने किया। वर्तमान में जौनपुर से सांसद हैं।

बृजलाल – भाजपा – 1977 सलाखों के आईपीएस रहे। मायावती सरकार में पुलिस महानिदेशक रही। पिछले साल 2020 में बीजेपी जवाइन किया और राज्यसभा के सांसद बने।

त्रिभुवन राम – पहले बसपा अब भाजपा- लोक निर्माण विभाग में चीफ इंजीनीयर के पद से रिटायर हुए वहाँ त्रिभुवन राम ने बसपा झावाइन किया था। वे वाराणसी की अजगरा सीट से विधायक थे। बाद में भाजपा जवाइन कर लिया।

चन्द्रपाल – खुद की पार्टी – IAS रहे। यूपी में कई महत्वपूर्ण पदों पर रहने के साथ-साथ भारत सरकार में सचिव भी रहे। में किसी भी पार्टी जवाइन नहीं की। आदर्श समाज पार्टी बनाकर खुद कई बार चुनाव लड़ा, लेकिन सफल नहीं रहा।

श्रीशचन्द्र दीक्षित – भाजपा – आईपीएस रहे और साथ ही यूपी के पुलिस महानिदेशक भी रहे। बीजेपी जवइन की थी और वाराणसी से बीजेपी से लोकसभा का चुनाव भी लड़ा और सांसद बने।

देवेन्द्र कुमार राय – भाजपा – पीपीएस थे लेकिन, प्रमोट वाले आईपीएस बने। 1992 में बाबरी मस्जिद के ढ़हाये जाने के समय तत्कालीन फैज़ाबाद (अब अयोध्या) के एसएसपी थे। बाद में भाजपा से सांसद बने।

रामरतन – भाजपा – आईएएस रहे। बाद में बीजेपी से राज्यसभा सांसद भी बने।

देवी दयाल – कांग्रेस – आईएएस रहे। भारत सरकार में याचिका सचिव भी रहे। बाद में कांग्रेस से लोकसभा का चुनाव लड़े।

एसके वर्मा – रालोद – आईएएस रहे। यूपी के कई जिलों में डीएम और बस्ती, मुरादाबाद और अलीगढ़ में कमिश्नर रहे हैं। बाद में वीआरएस के बारे में बिजनौर से राष्ट्रीय लोकदल से चुनाव लड़े।

महेन्द्र सिंह यादव – एसपी – आईपीएस रहे। श्याम सिंह सरकार में मुख्य सचिव नीरा यादव के पति हैं। सेवा से वीआरएस लिया और विधायक बने। मुलाय़म सिंह सरकार में राज्य मंत्री भी थे।

आरपी शुक्ला – रालोद – यूपी के गृह सचिव थे। राष्ट्रीय लोकदल जवाइन किया। पार्टी में राष्ट्रीय महासचिव बनाये गये थे लेकिन, कभी चुनाव नहीं लड़े।

तपेन्द्र प्रसाद – खुद की पार्टी – पहले पीसीएस में नियुक्त हुए फिर प्रमोट से आईएएस बने। पहले सपा में गया, संगठन में रहा। टिकट नहीं मिलने के कारण चुनाव नहीं लड़े। आजकल अपनी सम्यक पार्टी बनाये हुए हैं।

बीपी सिंघल – भाजपा – आईपीएस रहे। विश्व हिन्दु परिषद के अध्यक्ष रहे दिवंगत अशोक सिंघल के सगे भाई भी। बीजेपी से राज्यसभा भेजे गए।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोविद -19 से आंतरिक उड़ान से यात्रा करने वाले बोपन्ना सख्त क्वारंटाइन में रहने को मजबूर

रोहन बोपन्ना (फाइल फोटो)।नई दिल्ली: भारत के स्टार टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना (रोहन बोपन्ना) दोहा से मेलबर्न जाने वाले विमान में एक व्यक्ति...

एफपीआई ने जनवरी के पहले पखलिंग में भारतीय चार्ट में 14,866 करोड़ रुपये का निवेश किया

विदेशी पोर्टफोलियो अधिकारियों (एफपीआई) ने जनवरी के पहले पखडिंग में भारतीय चार्ट में 14,866 करोड़ रुपये का निवेश किया है। कंपनियों...

एक करोड़ रुपये की घूसखोरी के मामले में रेलवे का वरिष्ठ अधिकारी गिरफ्तार

प्रतीकात्मक फोटो।नई दिल्ली: सीबीआई (CBI) ने कथित तौर पर एक करोड़ रुपये की घूस लेने के मामले में रविवार को पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे...

बचत खाते से बार-बार निकासी करते हैं ताए ध्यान दें! गेनथ फ्लेक्स फिक्सड डिपॉजिट पर ब्याज की राशि कर सकते हैं

यदि आप अपने फ्लेक्सी और स्वीप इन सुविधा से लिंक्ड बचत खाते से बार-बार निकासी करते हैं तो आप स्वीप इन और फ्लेक्सी...

Recent Comments