Monday, May 17, 2021
Home Pradesh Uttar Pradesh आगरा: जेबकतरों को पकड़ने के लिए सिपाही बना रिक्शा चालक, 3 दिन...

आगरा: जेबकतरों को पकड़ने के लिए सिपाही बना रिक्शा चालक, 3 दिन तक लगातार ठोया पैसेंजर | आगरा – समाचार हिंदी में


आगरा: जेबकतरों को पकड़ने के लिए सिपाही बना रिक्शा चालक, 3 दिन तक लगातार ठोया पैसेंजर

आगरा के हरिपर्वत थाना क्षेत्र में जेबकटने की घटनाओं के वर्षों से होती हैं।

आगरा (आगरा) में आसपास के जिलों से आने वाले लोग अकसर ई रिक्शा पर बैठने के बाद पेशेवर जेबकरों का शिकार हो जाते थे। भगवान टॉकीज (भगवान टॉकीज चौराहा) चौराहे से लेकर हरिपर्वत तक जेब कटने की घटनाओं के बढ़ने पर पुलिस ने भेष बदलकर अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजने का जो संकल्प लिया उसमें काफी हद तक कामयाबी मिल गयी।

आगरा। ताजनगरी में हरिपर्वत थाने (हरिपर्वत पुलिस स्टेशन) की पुलिस इन दिनों चर्चा में है। हरिपर्वत थाने के एक सिपाही ने लगातार तीन दिन तक ई रिक्शा चलाकर आखिरकार जेबकतरे को धर दबोचा। अब पुलिसकर्मी गौतम द्वारा रिक्शा चलाकर अपराधी पकड़ने की तस्वीरें वायरल हो रही हैं। आगरा (आगरा) में आसपास के जिलों से आने वाले लोग अकसर ई रिक्शा पर बैठने के बाद पेशेवर जेबकरों का शिकार हो जाते थे। भगवान टॉकीज (भगवान टॉकीज चौराहा) चौराहे से लेकर हरिपर्वत तक जेब कटने की घटनाओं के बढ़ने पर पुलिस ने भेष बदलकर अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजने का जो संकल्प लिया उसमें काफी हद तक कामयाबी मिल गयी।

आगरा के हरिपर्वत थाना क्षेत्र में जेबकटने की घटनाओं के वर्षों से होती हैं। बहुत से लोग शिकायत ही नहीं करते हैं जबकि कुछ लोग शिकायत करते हैं तो उन्हें भी राशि वापस नहीं मिलती है। त्योहारों पर लगातार जब घटनाएं बढ़ती हैं तो बैठक द्वारा थानाध्यक्ष अजय कौशल ने महत्वपूर्ण योजना बनाई। इस योजना के तहत सिपाही गौतम लगातार तीन दिन तक ई रिक्शा चलाकर पीछे बैठे सवारियों पर कड़ी नजर रखने लगे। लगातार रिक्शा चलाने के दौरान सिपाही गौतम की अन्य रिक्शा चालकों से दोस्ती भी हो गई थी। ऐसे में तमाम रिक्शा चालकों से महत्वपूर्ण जानकारी मिलने के साथ ही गौतम का काम आसान होता है।

सिपाही गौतम अपने गले में गमछा भी बाँधे रहते थे
रिक्शा चालक के भेष में पैंट शर्ट पहने सिपाही गौतम अपने गले में गमछा भी बाँधे रहते थे। रिक्शा चलाने के तीसरे दिन उनके रिक्शे में पीछे बैठे एक बुजुर्ग की अचानक जेब कट गयी। जेब में 60 हजार रुपये थे। बुजुर्ग ने अपनी बेटी की शादी के लिए इन रुपयों को निकाला था। आरोपी और बुजुर्ग को हरिपर्वत थाने लाया गया तो बुजुर्ग काफी डरे हुए थे। बाद में जब उन्हें सच्चाई पता चली तो वह पुलिस का शुक्रिया अदा करते हुए आये। पहले पुलिस ने लगाया था सब्जी का ठेला आगरा पुलिस ने पूर्व में भी भेष बदलकर बेहतरीन कार्यशैली का प्रदर्शन किया था। सीएए के विरोध में जब पड़ोसी जनपद फिरोजाबाद में हिंसा हुई थी तो कई शातिर आगरा के मंटोला क्षेत्र में आकर छिपे थे। इनकी पहचान के लिए आगरा पुलिस के एक सिपाही ने कई दिन मंटोला में ठेले पर चिंताओंियां बेची थीं। उस दौरान आगरा पुलिस की फोटोज वायर वायरल हुई थीं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

2021 वोक्सवैगन टी-आरओसी की भारत में लॉन्च करने के लिए,…

डिजिटल नई दिल्ली। संचार के मामले में नियामक वोक्सवैगन (क्वाक्सवेगन) ने मार्च 2021 में टी-रॉक (टी-रोक) को भारत में इस्तेमाल किया...

छोटे कद का बड़ा धमाल, इन स्‍तंभों में कैमरा ने कहा कि कम माटा

बाजार में तेज गति से चलने वाला ने धमाल मचाते हुए अपने दिमाग को हल्का कर दिया।'' ऐरान ने जहां 20...

Recent Comments