Tuesday, January 18, 2022
HomeIndiaअपने 5 माह के कार्यकाल से जनता के दिलो में बस गए...

अपने 5 माह के कार्यकाल से जनता के दिलो में बस गए एबीएसए बनीकोडर संजय शुक्ल, हर तरफ हो रही प्रशंसा

अजय तिवारी

बाराबंकी। शिक्षा क्षेत्र बनीकोडर में गत 5 माह पूर्व कार्यभार ग्रहण करने वाले खण्ड शिक्षा अधिकारी संजय कुमार शुक्ल का भले ही जनपद उन्नाव तबादला हो गया हो लेकिन उनके कार्यकाल अपने विशेष शैक्षिक कार्यो के लिए एक लम्बे समय तक क्षेत्रवासियों द्वारा उन्हें याद किया जाएगा। आपको बता दे कि गत 23 जुलाई 2021 को बनीकोडर में बतौर खंड शिक्षा अधिकारी के रूप में तैनाती हुई थी, कार्यभार ग्रहण करते ही श्री शुक्ल ने पटरी से उतरी बनीकोडर की शिक्षा व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कड़ी मेहनत करते हुए अध्यापको के साथ बैठककर शिक्षा व्यवस्था में लापरवाही करने पर सख्त कार्यवाई करने के निर्देश जारी किए थे, इतना ही नही कही शिक्षकों पर शिक्षणकार्य में लापरवाही करने पर कड़ी कार्यवाई भी की थी,इतना ही नही कोविड काल में श्री शुक्ल ने मोहल्ला कक्षाओं का गाँव गाँव में संचालन करवाया, जिससे शिक्षको ने अपनी महती भूमिका निभाई, इन कक्षाओ में बच्चो के साथ अभिभावकों में प्राथमिक शिक्षा के प्रति काफी उत्साह देखने को मिला था। इस वर्ष नवीन खण्ड शिक्षाधिकारी व अध्यापको की मेहनत के चलते नामांकन में काफी वृद्धि हुई। श्री शुक्ल नियमित अपने क्षेत्र में सभी विद्यालयो का सघन निरीक्षण कर अध्यापको की नियमित उपस्थिति के प्रति कड़ा एवम सुधारात्मक रवैया अपनाया जिससे जो शिक्षक शिक्षणकार्य के प्रति लापरवाह थे उनमें खलभली मची रही।इतने कम समय मे लगभग सभी विद्यालयों में जाकर खण्ड़ शिक्षाधिकारी द्वारा अध्यापको के साथ बच्चो को शिक्षा के प्रति अधिक संवेदनशील बनाने पर जोर दिया ,जिसका असर विद्यालयों में दृष्टव्य होता है ।श्री शुक्ल द्वारा “अच्छे शिक्षक अच्छे स्कूल ,अच्छे छात्र अच्छा समाज “करके एक प्रोग्राम चलाया जिसमे भाषा व गणित की ग्रेडिंग मूल्यांकन किया ,प्रथम स्तर विद्यालय बच्चो का मूल्यांकन किया गया उसमे सफल का न्याय पंचायत स्तर पर तद्योपरांत न्याय पंचायत स्तर पर सफल बच्चो की ब्लॉक स्तर पर भाषा व गणित विषय की ग्रेडिंग की गयी जिसमे सफल बच्चो उनके अभिभावकों के साथ सम्मानित किया गया ।इस नवाचार ग्रेडिंग मूल्यांकन व्यवस्था की ।इस नवाचार एवम शैक्षिक सम्वर्धन हेतु क्षेत्रीय विधायक जनपदीय अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों, अभिभावकों द्वारा भी प्रशंसा की गई ।नियमित भ्रमण से जहां शिक्षको की उपस्थिति में सुधार हुआ व बच्चो की उपस्थिति व शैक्षिक स्तर में भी काफी सुधार हुआ ,इसके साथ ही संकुल मीटिंग में प्रत्येक अध्यापक द्वारा आदर्श पाठ योजना का प्रस्तुतिकरण, एक नवीन सोच को लागू किया,शासन द्वारा उनकी महत्वाकांक्षी योजनाओ को लागू करवाने व शैक्षिक संवर्धन के लिए श्री शुक्ल को पूर्व में प्रदेश स्तर व राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित भी किया जा चुका है।वर्तमान में श्री शुक्ल की शैक्षिक नवाचारी सोच का लाभ केवल बेसिक विभाग को नही बल्कि आम जन मानस को भी मिल रहा है। ऐसे अधिकारी शिक्षा विभाग के लिए प्रेरक की भूमिका में है जो शैक्षिक नीव को मजबूत करने में अपनी महती भूमिका निभाते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments